Rajyog Meditaion Sivir at Madi Narayangarh (Neapl)

Rajyog Meditaion Sivir is finished at Madi, Chitwan, Nepal.

House Inauguration at Gajuri Dhading

Gjuri : Brahmakumari Rajyog Upa Sewakendra Gajuri, Newly House is Being Inaugurated by the Director of Brahmakumaris Nepal, other BKs are also seen and participating.

Minister of Law Shalikram Jamarkattel, BK Raj Dadiji and Others Lighting the candle during the Event.

मनहरी में माता तीर्थ अमावस्या मनाया

Manahari (Narayangarh) : प्रदेश नं ३ प्रमुख अनुराधा कोइराला को ईश्वरीय उपहार प्रदान करते ब्रह्माकुमारी राजयोग सेवाकेन्द्र नेपाल की निर्देशक ब्रह्माकुमारी राज दादी जी

 

कल ब्रह्माकुमारी राजयोग सेवाकेन्द्र मनहरी मकवानपुर (हेटौंडा) ने माताओं के सम्मानार्थ भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया । उक्त कार्यक्रम मे ब्रह्माकुमारी राजयोग सेवाकेन्द्र नेपाल की निर्देशक राजयोगीनी राज दादी के सभापतित्व मे प्रदेश नं ३ की माननीय प्रदेश प्रमुख अनुराधा कोइराला प्रमुख अतिथि रहे । इस अवसर पर मिस नेपाल श्रृंखला खतिवडा, सांसद मुनु सिग्देल, अभिनेता तथा फिल्म डाइरेक्टर निखिल उप्रेती का उत्साह जनक सहभागिता रहा ।
मिस नेपाल श्रृंखला खतिवडा ने बताया कि उसका जीवन का उन्नती  के आधार ही माँ है । आगे जो भी उनसे होने वाला है वह भी सब माँ का कृपा, आशीर्वाद एवं शुभभावना के कारण ही सम्भव होता है । ऐसे ही फिल्म डाइरेक्टर तथा अभिनेता निखिल उप्रेती ने चिन्तनशील विचार रख्ते हुए कहा— हम केवल एक दिन माँ का दिवस ही न मनाएँ परन्तुर जीवनभर उनका ख्याल रखकर उनका होने का अहसास होने देँ ।

अन्त मे प्रदेश प्रमुख अनुराधा कोइराला ने भी बताया कि समाज ही माता का उपज है। माँ न होती त हम न होते, और समाज होने की तो कल्पना भी हम नही कर सकते। एैसी विभिन्न वक्ताओं ने माता के सम्मान मे अपना आँखे भी नम होने जैसी विचार रखे ।
आज ही के दिन मे मतलब माता तीर्थ अमावस्या के ही दिन मे नेपाल के भूमि मे ५ दशक से भी ज्यादा ईश्वरीय सेवा देकर समाज  कल्याण  मे लगे हुए आदरणीय राजयोगिनी राज दिदीको दादी के सम्बोधन से सम्बोधन कर्ने का औपचारिक घोषणा भी की l दादी जी को  एक बडा माला सभी ब्रह्माकुमारीज के तरफ से पहनाया गया। दादी जी ने बताया कि लौकिक जीवन को जनम देने हर किसी के माँ तो होती  ही हैँ फिर भी परमात्मा हमारे लिए माता है । वही हमारे पालनहार हैं । हम हैं तो केवल उन्ही के निमित्तमात्र।

Programms on Shivaratri

Narayangarh Service News Chitwan Nepal

चितवन इंग्लिश सीनियर सेकंडरी स्कूल नारायणगढ़ नेपाल के स्कूल में शिक्षको के लिए आदर्श शिक्षक विषय पर प्रोग्राम

समाज को सुधारने के लिए आदर्श उक्त उद्गार प्रजापति बह्मकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय मांऊट आबू से पधारे राजयोगी बह्मकुमार भगवान भाई ने कहा कि, अगर भावी समाज को आदर्श बनाना चाहते हो तो छात्राओं को भौतिक शिक्षा के साथ नैतिक आचरण पर भी उनके ऊपर ध्यान देने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि बिगड़ती परिस्थिति को देखते हुए समाज को सुधारने की बहुत आवश्यकता हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षक वही है जो अपने जीवन की धारणाओं से दूसरों को शिक्षा देता है। धारणाओं से वाणी, कर्म, व्यवहार और व्यक्तित्व में निखार आ जाता है। भगवान भाई ने कहा कि शिक्षा देने के बाद भी अगर बच्चे बिग$ड रहे हैं उसका मतलब मूर्तिकार में भी कुछ कमी है। उन्होंने कहा कि शिक्षक के अंदर के जो संस्कार है उनका विद्यार्थी अनुकरण करते हे। । शिक्षकेां को केवल पाठ प$ढाने वाला शिक्षक बनना है। उन्होंने कहा कि शिक्षक होने के नाते हमारे अंदर सद्गुण होना आवश्यक है। शिक्षा मेें भौतिक सुधार तो है लेकिन नैतिकता का हृास होता जा रहा है। उन्होंने बताया कि अपने जीवन की धारणाओं के आधार से नैतिक पाठ भी आवश्यक पढाये। भगवान भाई ने कहा कि शिक्षकों के हाव भाव उठना, बोलना, चलना, व्यवहार करना इन बातो का असर भी बच्चों के जीवन में प$ढता है। उन्होंने कहा कि जब समाज को शिक्षित करने व शिखा देने के स्वरूप को बदलने की आवश्यकता है, स्वयं के आचारण से शिक्षा देने की आवश्यकता है।

प्रिंसिपल केशव श्रेष्ठकहना है कि एक दीपक से पूरा कमरा प्रकाशमान होता है तो क्या पूरे जिले को मूल्य निष्ठ शिक्षा से प्रकाशित हम सब मिलकर नहीं कर सकते हैं? अब आवश्यकता है सेवाभाव की। उन्होंने कहा कि आचरण की शिक्षा जबान में भी तेज होती है।सहायक प्रिंसिपल गायत्री श्रेष्ठ ने कहा कि परिवर्तन करने की जिम्मेवारी शिक्षकों की है, शिक्षकों को स्वयं को आचरण पर ध्यान देने के लिए आध्यात्मिक ज्ञान के साथ साथ तनाव मुक्त रहने की आवश्यकता है। उन्हेांने बह्मकुमारी द्वारा चलाये जा रहे इस अभियान की सराहना की ।